Thursday, January 3, 2008

विज्ञान गल्प का समृद्ध संसार

हमारे समय के सबसे ज़्यादा चर्चित-प्रशंसित कथाकारों में से एक, फाहरेनहाइट 451 सहित 30 से अधिक पुस्तकों के लेखक 90 वर्षीय रे ब्रेडबरी की नई किताब नाऊ एण्ड फॉरएवर: समव्हेयर अ बैण्ड इज़ प्लेइंग एण्ड लेवियाथन ’99 कृतित्व के दो नितांत भिन्न आयामों से हमारा परिचय कराती है. रे ब्रेडबरी की ख्याति विज्ञान कथा और फैण्टेसी लेखक के रूप में अधिक है. इस किताब में उनकी अब तक अप्रकाशित दो उपन्यासिकाएं हैं.
पहली उपन्यासिका समव्हेयर अ बैण्ड इज़ प्लेइंग को आलोचकों ने एक स्वर से ब्रेडबरी की ‘फाहरेनहाइट 451’ के बाद की श्रेष्टतम रचना माना है. उपन्यासिका का प्रारम्भ होता है एक कविता से जिसका आशय कुछ इस तरह से है कि कहीं एक बैण्ड बज रहा है, उसे सुनो. अगर तुमने उसकी धुन को सुन लिया तो तुम सदा नृत्य रत रहोगे, और मौत सदा को शांत हो जाएगी.. इस कविता को पढते हुए उपन्यासिका का मुख्य पात्र पत्रकार जेम्स कार्डिफ अपनी आंखें मूंद लेता है और क्रमश: समरटन, एरिज़ोना नामक एक विलक्षण कस्बे की तरफ आकृष्ट होता है. वह उसी रात ट्रेन पकड कर अपने सपनों के इस कस्बे की ओर चल पडता है जहां कोई ट्रेन रुकती ही नहीं है क्योंकि यह कस्बा नक्शे तक में नहीं है. अंतत: वह चलती ट्रेन से ही इस कस्बे में कूद पडता है. वहां उसका ऐसे स्वागत होता है जैसे उसका इंतज़ार ही किया जा रहा हो. रेगिस्तान के बीच में बसा यह समरटन लगभग स्वर्ग जैसा ही है. स्वादिष्ट खाद्य पदार्थ और उत्कृष्ट मदिरा से भरा. गाडियों में लदी ताज़ा ब्रेड हर रोज़ कस्बा वासियों को मिलती है, हर घर के हरे-भरे तराशे हुए खूबसूरत लॉन में उगे विशाल सूरजमुखी के फूल सूरज को ताकते हैं, मीठी प्यारी हवा सांसों में ताज़गी भरती रहती है. और भी सब कुछ सर्वोत्क़ृष्ट. समय और उद्योग इस कस्बे को जल्दी ही बदल डालने को है. लेकिन कार्डिफ को लगता है कि कुछ महत्वपूर्ण है जो अनुपस्थित है. वहां न तो बच्चे हैं, न बेसबाल के बल्ले और न बास्केटबाल के खम्भे. है एक उजडा-सा स्कूल, जिसमें पढने वाला कोई नहीं है. कस्बे में केवल युवा हैं. कोई डॉक्टर भी वहां नहीं है. एक बहुत अजीब-सा कब्रिस्तान ज़रूर है. कस्बे के सारे लोग बहुत स्वस्थ और प्रमुदित हैं. अजीब इसलिए कि वहां कब्रों पर जो पत्थर लगे हैं. उन पर मृत्यु तिथि की बजाय जन्म तिथियां अंकित हैं. कस्बे में कोई न तो बूढा होता है और न मरता है. वहां हरेक व्यक्ति एक लेखक है. जेम्स को इजिप्शियन व्यू आर्म्स नामक एक विशाल विक्टोरियन बोर्डिंग हाउस में ले जाया जाता है. इसकी मालकिन है रहस्यमयी नेफ. बला की खूबसूरत और सम्मोहक. जेम्स को लगता है जैसे वह नेफ को युगों-युगों से जानता है और नेफ जैसे उसी का इंतज़ार कर रही है. महत्वपूर्ण है समरटन की हवा में फैली रहस्य की गंध. कार्डिफ उसी गंध को सूंघ कर उसका पीछा करता है और जो कुछ पाता है उसे हमारे लिए लिखता है. उसके मन में द्वन्द्व है कि क्या वह कस्बे वालों को यह बता दे कि सरकार बहुत जल्दी उस कस्बे को नेस्तनाबूद कर वहां एक हाइवे बनाने वाली है. उपन्यास का गद्य इतना काव्यात्मक है कि चाहें तो केवल उसके आस्वाद के लिए ही इसे पढ लें.
इस कथा से एकदम भिन्न है लेवियाथन ’99 की कथा. अगर संगीत की भाषा में कहें तो कह सकत हैं कि पहली कथा आलाप जैसी है और दूसरी किसी द्रुत गत जैसी. लेवियाथन दर असल हरमन मेलविल के सुप्रसिद्ध उपन्यास मॉबी डिक का आधुनिक रुपांतरण है. ब्रेडबरी पूरी ज़िन्दगी मॉबी डिक से प्रभावित रहे हैं. 1955 में उन्हें इस उपन्यास का स्क्रीन प्ले तैयार करने को कहा गया था. अपने वर्तमान रूप में ब्रेडबरी का यह लघु उपन्यास सफेद व्हेल और पागल कप्तान अहाब के साथ ब्रेडबरी की मुठभेड की परिणति है. इस कथा का काल 2099 है और यह घटित होती है एक विशाल जहाज सेस्टस 7 पर. एक जहाजी इस्माइल जोंस अपनी जान बचाने और कप्तान के आदेश का पालन करने के द्वन्द्व में फंसा है. अन्धा और पागल कप्तान ब्रह्माण्ड के सर्वाधिक प्रभावशाली और विनाशक धूमकेतु लेवियाथन से आतंकित है.यहां ब्रेडबरी ने मेलविल की व्हेल को धूमकेतु में रुपांतरित किया है. उन्होंने ने मेलविल की कथा की दार्शनिक गहनता को भी बहुत खूबी से उभारा है.
ब्रेडबरी जब किसी स्थान का वर्णन करते हैं तो लगता है जैसे आप वहां मौज़ूद हैं और जब वे किसी मौसम के बारे में लिखते हैं तो आप खुद उस मौसम का अनुभव करते हैं. ब्रेडबरी के लेखन के रसज्ञों का कहना है कि यहां उनकी कल्पनाशीलता अपने चरम पर है. दोनों उपन्यासिकाओं का अंत बता कर मैं अपने पाठकों के सुख को छीनने का अपराधी नहीं बनना चाहता. विज्ञान कथा लेखन के शीर्ष रचनाकार ब्रेडबरी की ये दोनों उपन्यासिकाएं आपको कुछ इस तरह अभिभूत करती हैं कि इनके प्रभाव से मुक्त होने का मन ही नहीं करता.
◙◙◙

राजस्थान पत्रिका के नगर परिशिष्ट जस्ट जयपुर में मेरे साप्ताहिक कॉलम वर्ल्ड ऑफ बुक्स में 3 जनवरी 2008 को प्रकाशित.
Post a Comment